National

ममता बनर्जी ने तीसरी बार मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली

मुख्यमंत्री ने कहा, मैं आज से ही अपना काम शुरू करूंगी। मैं नब्बना जाउंगी और राज्य में कोविड की स्थिति पर एक उच्च स्तरीय बैठक करूंगी।

कोलकाता : ममता बनर्जी ने बुधवार सुबह कोलकाता के राजभवन में ‘सिंहासन कक्ष’ में आयोजित एक समारोह में पश्चिम बंगाल की सीएम के रूप में शपथ ले ली। शपथ लेने के बाद उन्होंने घोषणा की है कि राज्य में कोविड की स्थिति को संभालना और चुनाव के बाद की हिंसा और राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति से निपटना उनकी प्राथमिकता होगी।

मुख्यमंत्री का काफिला हरीश चटर्जी स्ट्रीट में अपने निवास स्थान से सुबह 10.10 बजे निकला और सुबह 10.20 बजे राजभवन पहुंचा। किसी अन्य दिन की तरह मुख्यमंत्री की झलक पाने के लिए सड़क के किनारे खड़े लोगों के सामान्य ²श्य गायब था क्योंकि ममता बनर्जी ने सभी से घर के अंदर रहने का अनुरोध किया था। हालांकि उत्सुक आँखें अनुपस्थित थीं लेकिन पूरी सड़क को नीले-सफेद रंग से सजाया गया था । तृणमूल कांग्रेस और बड़े फुटबाल पर रंगा हुआ पार्टी के थीम गीत ‘खेले होबे’ को शानदार तरीके से दिखला रहे थे।

मुख्यमंत्री ममता बनजी के साथ उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी और चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर भी मौजूद थे। सभी लोग राजभवन पहुंचे और अतिथियों के साथ खुशियों का आदान-प्रदान किया गया। इस मौके पर तृणमूल के अरूप बिस्वास, सुब्रत मुखर्जी, पार्थ चटर्जी, सुब्रत बख्शी और फिरहाद हकीम मौजूद थे। हालांकि विपक्षी नेताओं और भाजपा राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन, दिग्गज नेता अब्दुल मन्नान, वाम मोर्चा के अध्यक्ष बिमान बसु, पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य और बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को आमंत्रित किया गया था, लेकिन वे लोग उपस्थित नहीं थे।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ के 10.44 बजे हॉल में प्रवेश करने के बाद शपथ ग्रहण समारोह शुरू हुआ और उनके प्रवेश के बाद राष्ट्रगान हुआ। यह समारोह सुबह 10.45 बजे शुरू हुआ और सात मिनट तक चला जहां ममता बनर्जी ने बंगाली में शपथ ली।

इसके बाद मीडिया से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, मैं आज से ही अपना काम शुरू करूंगी। मैं नब्बना जाउंगी और राज्य में कोविड की स्थिति पर एक उच्च स्तरीय बैठक करूंगी। हमें स्थिति और कई उपायों की समीक्षा करने की आवश्यकता है। तमाम उपायों के बारे में शाम को घोषणा होगी हमें उम्मीद है कि हम स्थिति को नियंत्रित करने में सक्षम होंगे जैसा हमने पहले किया था। ”

मैं इस अवसर पर सभी राजनीतिक दलों के सभी लोगों और कार्यकतार्ओं से शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए अपील करना चाहती हूं। बंगाल की अपनी संस्कृति है और हमें यह नहीं भूलना चाहिए। कुछ छिटपुट घटनाएं हैं। मुझे जानकारी मिली है लेकिन प्रशासन पिछले तीन महीनों से मेरे हाथ में नहीं था। मैं सभी को आवश्यक कार्रवाई करने और स्थिति को ²ढ़ता से संभालने का आश्वासन देती हूं, लेकिन इससे पहले मैं सभी से शांतिपूर्ण तरीके से रहने की अपील करना चाहूंगी। ”

भाजपा राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष ने मीडिया से कहा था कि उन्होंने शपथ ग्रहण समारोह में शरीक नहीं होने का फैसला किया क्योंकि पूरे राज्य में चुनाव के बाद हुई हिंसा में भाजपा के बहुत से कार्यकर्ता मारे जा रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि उन्हें सरकार से कोई निमंत्रण पत्र नहीं मिला है।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.