National

सुबह सुबह होटल के पास शेरनी

शहर में आबादी वाले स्थानों में शेरों का प्रवेश करना कोई असामान्य घटना नहीं हैं और निवासियों को ऐसी घटनाओं पर गर्व की अनुभूति होती है।

गांधीनगर : गुजरात के जूनागढ़ शहर के मध्य भाग में स्थित एक होटल के पार्किं ग क्षेत्र में बुधवार तड़के शेरनी को सीसीटीवी में कैद किया गया और दूर जाने से पहले वह कुछ देर तक वहां टहलती रही।

जूनागढ़ शहर में आबादी वाले स्थानों में शेरों का प्रवेश करना कोई असामान्य घटना नहीं हैं और निवासियों को ऐसी घटनाओं पर गर्व की अनुभूति होती है, क्योंकि यह मानव-वन्यजीव आपसी सह-अस्तित्व का प्रतीक है।

होटल के मालिक संजय कोराडिया ने आईएएनएस से कहा, “जब सुबह करीब 5 बजे होटल के पार्किं ग एरिया में शेरनी को देखा गया तो, तो हमारे होटल के गार्ड सतर्क हो गए। उन्होंने प्रबंधन को सूचित किया।

शेरनी ने तेजी अपना रास्ता बना लिया। यह घटना सुबह हुई, इसलिए सुरक्षा गार्ड के अलावा पार्किं ग स्थल में कोई मौजूद नहीं था। इस तरह की घटनाएं दुर्लभ नहीं हैं।”

उपवन संरक्षक डॉ. सुनील बेरवाल ने बताया, “जूनागढ़ शेरों का निवास है। शहर अभयारण्य से अलग नहीं है। होटल शहर के मध्य भाग में रेलवे स्टेशन के बहुत करीब है। कुछ दुर्भाग्यपूर्ण कारणों से, शेरनी अपनों से अलग हो गई। ऐसा लगता है कि वह जंगल में वापस जाना चाहती थी। बाकी देश के लिए, यह घटना सनसनी की बात हो सकती है, लेकिन जूनागढ़ के लोगों के लिए यह एक सामान्य बात है।

बेरवाल ने कहा, “हमें गिर अभयारण्य में शेरों की एक अच्छी आबादी मिली है और स्थानीय लोग बहुत सहयोग करते हैं और वे शहर में बड़ी बिल्लियों की उपस्थिति का बुरा नहीं मानते हैं।”

कोराडिय़ा ने कहा कि जूनागढ़ में लोगों ने कभी शेरों द्वारा हमला किए जाने का अनुभव नहीं किया है। ‘हालांकि, तेंदुए जैसी अन्य बड़ी बिल्लियों को शहर में लोगों पर हमला करने के लिए जाना जाता है।’

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.